फैक्ट चेक

रोहतक में किसानों ने सीएम खट्टर का किया ये हाल? तीन साल पुरानी है ये तस्वीर

केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन को 125 दिन पूरे हो चुके हैं। आंदोलन का प्रभाव ज्यादातर पंजाब और हरियाणा के हिस्सों में है और इसी वजह से हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला को किसानों के गुस्से का सामना करना पड़ रहा है। शनिवार को भी पुलिस और किसानों के बीच हिंसक झड़प हुई, जब किसानों ने रोहतक में सीएम खट्टर के एक कार्यक्रम का विरोध करना शुरू कर दिया। विरोध के चलते रोहतक में खट्टर के हैलीपैड को भी दो बार बदलना पड़ा। 

इसी को ध्यान में रखते हुए सोशल मीडिया पर मनोहर लाल खट्टर की एक तस्वीर वायरल की जा रही है, जिसमें उनके चेहरे और कपड़ों पर कालिख जैसा कोई पदार्थ लगा दिख रहा है। पोस्ट में दावा किया जा रहा है कि विरोध के चलते शनिवार को रोहतक में युवा किसानों ने सीएम खट्टर का ये ये हाल कर दिया। वायरल पोस्ट में एक और तस्वीर भी है जिसमें एक आदमी एक अन्य व्यक्ति को पकड़कर कहीं ले जाते हुए नजर आ रहा है। सोशल मीडिया यूजर्स तस्वीरों के इस कोलाज को अलग-अलग कैप्शन के साथ शेयर कर रहे हैं। 

हमने पाया कि वायरल पोस्ट भ्रामक है। ये तस्वीर अभी की नहीं बल्कि मई 2018 की है, जब हरियाणा के हिसार में मनोहर लाल खट्टर पर एक व्यक्ति ने काला तेल फेंका था। इसके साथ ही खट्टर की वायरल तस्वीर के साथ छेड़छाड़ भी की गई है क्योंकि असली तस्वीर में उनका चेहरा साफ-सुथरा नजर आ रहा है और काला तेल सिर्फ कपड़ों पर दिख रहा है। 

ये तस्वीर गलत दावे के साथ फेसबुक पर वायरल हो रही है। इस तस्वीर के कैप्शन में लोग लिख रहे हैं, "आज रोहतक के युवा किसान साथियों ने हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर पर क्या फेंका कमेंट में बताएं किसान एकता जिंदाबाद।"

कैसे पता चली सच्चाई?
तस्वीर को रिवर्स सर्च करने पर हमें "अमर उजाला" की एक रिपोर्ट मिली जिसमें ये तस्वीर मौजूद थी। यहां दी गई जानकरी के अनुसार, सीएम खट्टर के साथ ये घटना तब हुई जब वे हिसार में एक रोड शो कर रहे थे। इस दौरान प्रवीण पहलवान नाम के एक व्यक्ति ने जाट आरक्षण जिंदाबाद और ताऊ देवी लाल जिंदाबाद के नारे लगाते हुए खट्टर पर काला तेल फेंका था। पुलिसकर्मियों ने तुरंत व्यक्ति को पकड़ लिया था। वायरल तस्वीर में जिस व्यक्ति को पकड़कर ले जाया जा रहा है वो प्रवीण पहलवान ही है। 

इस बारे में "द टाइम्स ऑफ़ इंडिया" और "द इंडियन एक्सप्रेस" में भी खबरें प्रकाशित हुईं थी। 17 मई 2018 को हुई इस घटना का एक वीडियो भी यूट्यूब पर उपलब्ध है। 
रिपोर्ट्स में मौजूद खट्टर की फोटो से ये भी पता चलता है कि वायरल तस्वीर में उनका चेहरा एडिटिंग सॉफ्टवेयर की मदद से बिगाड़ दिया गया है। यूट्यूब वीडियो में भी ये देखा जा सकता है कि तेल खट्टर के कपड़ों और सिर के पीछे वाले हिस्से पर गिरा था, चेहरे पर नहीं। 

हमारी पड़ताल में साबित हो जाता है कि मनोहर लाल खट्टर की ये तस्वीर लगभग तीन साल पुरानी है और इसका किसान आंदोलन से कोई संबंध नहीं है। इसके अलावा, तस्वीर को एडिट भी किया गया है। 

Leave A Comment