अन्य

ATM बूथ पर खड़े युव​क ने मदद का झांसा देकर बदला कार्ड, खाते से निकाले 18500 रुपए

एटीएम बूथ से पैसे निकालने गए युवक की छोटी सी लापरवाही भारी पड़ गई। बूथ पर पहले से खड़े शातिर ने मदद करने के बहाने से एटीएम कार्ड बदल लिया और खाते से 18,500 रुपए निकाल लिए। बैंक से पैसे निकलने के बाद जब पीड़ित बैंक पहुंचा तो पुलिस में शिकायत के बाद ही मदद करने की बात कही। वहीं थाना मामला दर्ज करने की बजाय टालमटोल कर रहा है।

दरअसल, मामला रामगढ़ शेखावाटी का है। बागास गांव में रहने वाले मांगीलाल मेघवाल का बैंक में खाता है। उसके पास एटीएम था। मांगीलाल का बेटा कुलदीप अपनी मां के साथ कस्बे में आया था। पिता ने उसको कुछ पैसे निकाकर लाने की कहकर एटीएम कार्ड थमा दिया। एटीएम बूथ पर आया तो कुछ लोग खड़े हुए थे। इस दौरान वह बस स्टैंड पर मां को गांव जाने वाली बस में बिठा आया।

एटीएम बूथ पर आया तो वहां पर एक युवक पहले से खड़ा था। कुलदीप ने अपने भाई को फोनकर एटीएम के पिन नंबर पूछे। उस पिन को उसने कंफर्म करने के लिए जोर से बोल दिया। इसके बाद जब वह एटीएम बूथ में गया तो वहां खड़े शख्स ने पैसे निकालने में मदद करने की कहकर उसका कार्ड ले लिया।

एक दो बार ट्राई किया, बाद में मशीन खराब होने की कहकर लौटा दिया। कुलदीप शाम को घर पहुंचा तो उसके पिता के नंबर पर शाम को करीब 7.30 बजे दो मैसेज आए। इसमें एक बार में 10 हजार रुपए और दूसरे मैसेज में 8500 रुपए निकाले गए थे। इसकी जानकारी लगी तो एटीएम कार्ड देखा तो वह बदला हुआ था।

पीड़ित मांगीलाल बैंक पहुंचा तो बैंककर्मियों ने सीसीटीवी में घटना की तस्दीक करने के बाद पुलिस की शिकायत के बाद ही आगे की कार्रवाई करने की बात कहकर लौटा दिया, जबकि पुलिस ने भी मांगीलाल को पहले पत्नी और बेटे को लाने के बाद ही शिकायत दर्ज करने की कहकर लौटा दिया।

शुरूआती जानकारी में सामने आया कि कुलदीप जब भाई से पिन नंबर पूछ रहा था तो शातिर युवक ने उसे सुन लिया। उसकी बातचीत में यह भी पता चल गया कि इसको एटीएम से रुपए निकालने नहीं आते। उसने मदद करने के नाम पर खुद के कार्ड के साथ कुलदीप के कार्ड को बदल लिया। इसके बाद चूरू में जाकर रुपए निकलवाए।

पीडि़त मांगीलाल चेजा पत्थर की मजदूरी करता है। उसने कई दिनों बाद ये रुपए जमा किए थे। मांगीलाल के खाते में कुल 18722 रुपए ही थे, जिसमें से शातिर बदमाश ने 18500 रुपए निकाल लिए। 

Leave A Comment