अन्य

1 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स चाहते हैं न हो बोर्ड परिक्षाएं, जानें क्या है CBSE का जवाब

बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामलों के बीच कक्षा 10 और 12 के एक लाख से अधिक छात्रों ने सरकार से आग्रह किया है कि वे मई में होने वाली बोर्ड परीक्षाओं को रद्द कर दें या उन्हें ऑनलाइन मोड में आयोजित करें। बता दें कि पिछले दो दिनों से ट्विटर पर #cancelboardexams2021" ट्रेंड कर रहा है। 
वहीं, सीबीएसई और सीआईएससीई दोनों ने कहा है कि छात्रों के लिए सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम किए जा रहे हैं और परीक्षा के दौरान सभी COVID-19 दिशानिर्देशों का पालन किया जाएगा। 

छात्रों की सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए जा रहे हैं
सीबीएसई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने समाचार एजेंसी प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया को बताया कि, “छात्रों को सुरक्षित रखने के लिए पर्याप्त व्यवस्था की जा रही है और सभी COVID प्रोटोकॉल का पालन किया जाएगा। सामाजिक दूरी सुनिश्चित करने के लिए परीक्षा केंद्रों की संख्या में 40-50 प्रतिशत की वृद्धि की गई है।  परीक्षा केंद्रों के कर्मचारियों को यह सुनिश्चित करने के लिए संवेदनशील बनाया जा रहा है कि सभी दिशानिर्देशों का पालन किया जाए।”

Change.org याचिका में बोर्ड परीक्षाएं रद्द कराने का किया गया है आग्रह
बता दें कि Change.org पर एक याचिका में कहा गया है कि, “ भारत में स्थिति दिन पर दिन खराब होती जा रही है। जब देश में कुछ ही मामले थे, तो उन्होंने बोर्ड परीक्षाओं को रद्द कर दिया था और अब जब मामले चरम पर हैं तो वे स्कूल खोलने की योजना बना रहे हैं। हम शिक्षा मंत्री से इस मामले को देखने और इस वर्ष आयोजित होने वाली सभी परीक्षाओं को रद्द करने का आग्रह करते हैं क्योंकि छात्र पहले से ही बहुत तनाव में हैं।"

स्टूडेंट्स ने ट्वीटर पर की परीक्षाएं ऑनलाइन कराने की मांग 
बता दें कि कई स्टूडेंट्स ने ट्विटर लिखा है कि, सरकार से कम से कम एक महीने के लिए परीक्षाएं स्थगित कर दे और फिर मामलों की संख्या के आधार पर आगे की समीक्षा करे। एक अन्य यूजर ने ट्वीट किया, "इस महामारी में छात्रों को पहले ही कई समस्याओं का सामना करना पड़ा है। कक्षाएं ऑनलाइन आयोजित की गई थीं, इसलिए परीक्षाएं भी ऑनलाइन होनी चाहिए या छात्रों को आंतरिक मूल्यांकन के अंकों के माध्यम से प्रमोट किया जाना चाहिए।"

गौरतलब है कि आमतौर पर प्रैक्टिकल परीक्षाएं जनवरी में आयोजित की जाती हैं और लिखित परीक्षा फरवरी में शुरू होती है और मार्च में समाप्त होती है। लेकिन पिछले साल कोरोना संक्रमण की वजह से, परीक्षा में देरी हुई जिन्हें इस साल मई-जून में कराने का फैसला लिया गया था। 

Leave A Comment