अन्य

नार्वे में कोविड-19 से इंकार करनेवाले की मौत, सोशल मीडिया पर फैलाई थी झूठी खबर

कोविड-19 को फर्जी बताने वाले और साजिश माननेवाले शख्स की दो सभा आयोजित करने के कुछ दिनों बाद नार्वे में कोरोना वायरस से मौत हो गई। 60 वर्षीय हैन्स क्रिस्टियन गारडेर 6 अप्रैल को उत्तरी ओस्लो के एक म्यूनिसिपलिटी एलाके ग्रान में मौत के बाद कोरोना पॉजिटिव पाए गए। अपनी मौत से ठीक चंद दिनों पहले, उन्होंने दो अवैध सभा अपने मकान पर 26 और 27 मार्च को आयोजित की थी। तब से अब तक सभा में शिरकत करने वाले कई लोग पॉजिटिव पाए गए और वायरस को अपने परिचितों को ट्रांसफर किया।

कोविड-19 को फर्जी बतानेवाले शख्स की कोरोना से मौत
स्थानीय मीडिया ने रिपोर्ट दी कि कार्यक्रम में शिरकत के बाद 12 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए और उन्होंने दूसरों तक वायरस को फैलाना जारी रखा। पुलिस ने प्रेस रिलीज में बताया, "हम नहीं जानते कितने और किन-किन लोगों ने सभा में शिरकत की थी, लेकिन शामिल होनेवालों से कहा जाता है कि जहां तक संभव हो कोरोना का टेस्ट करवा लें।"

अधिकारियों का मानना है कि गारडेर कई हफ्तों तक बीमार रहे होंगे लेकिन उन्होंने किसी को बताया नहीं। ग्रान म्यूनिसिपलिटी ने अपनी वेबसाइट पर एक 60 वर्षीय पुरुष की मौत की पुष्टि की। वेबसाइट पर जानकारी दी गई, "ग्रान निवासी एक 60 वर्षीय पुरुष की मौत कोरोना वायरस से बीमार होने के बाद हो गई।

उनकी बुलाई सभा में शामिल होनेवाले 12 कोरोना पॉजिटिव
शख्स का कोरोना वायरस टेस्ट उसके मरने से पहले नहीं किया गया था, लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पुष्टि हुई है कि व्यक्ति वायरस से संक्रमित हुआ था। ग्रान म्यूनिसिपलिटी को खबर दी है कि मार्च में शुक्रवार और शनिवार को दो समारोह पुरुष के घर पर आयोजित किए गए थे।" संक्रमण पर काबू पाने की कवायद के तहत इलाके में 16 मार्च से भीड़भाड़ को बैन कर दिया गया है।

गारडेर टेलीविजन पर और ऑनलाइन पत्रिका का संपादन करते हुए कोरोना को साजिश मानने के लिए मशहूर थे। उन्होंने बार-बार दावा किया कि कोरोना वायरस जुकाम से तुलना किए जाने योग्य है और अपने फेसबुक पेज पर कई पोस्ट लिखे जिन्हे सोशल मीडिया वेबसाइट ने 'झूठी सूचना' के तौर पर चिह्नित किया है।

Leave A Comment