बिजनेस

बीमा कंपनियों को कोरोना का कैशलेस इलाज करने का आदेश, नहीं माने तो होगी कार्रवाई

कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप के बीच आपके लिए बड़ी राहत की खबर है। इंश्योरेंस रेगुलेटर इरडा ने इंश्योरेंस कंपनियों को कहा है कि अगर उन्होंने अपने ग्राहकों को नेटवर्क हॉस्पिटल में कैशलेस इलाज की सुविधा मुहैया कराई है, तो इसी तरह कोरोना का इलाज भी कैशलेस तरीके से करना होगा।

कोरोना का भी होगा कैशलेस इलाज
इसका सीधा सा मतलब है कि कोरोना के इलाज को भी अन्य बीमारियों की तरह समझना होगा। इस फैसले से उन लोगों को बड़ी राहत मिलेगी, जिन्होंने हेल्थ इंश्योरेंस कराया हुआ है और इसके तहत ही कोरोना का इलाज भी कैशलेस करवाना चाहते हैं।

हॉस्पिटल नहीं मानें तो होगी कार्रवाई
सरकार ने भी इस फैसले का स्वागत किया है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 22 अप्रैल को इरडा के चेयरमैन एस सी खुंटिया से इंश्योरेंस कंपनियों द्वारा कैशलेस सुविधा न देने वाली शिकायतों पर तत्काल कार्रवाई करने को कहा।

9 लाख से ज्यादा क्लेम का निपटारा हुआ
पिछले साल मार्च में कोविड को व्यापक स्वास्थ्य बीमा में शामिल किया गया। कैशलेस इलाज की सुविधा नेटवर्क अस्पतालों के साथ-साथ अस्थाई अस्पतालों में भी उपलब्ध है। वित्त मंत्री ने यह भी कहा कि इंश्योरेंस कंपनियों ने 8,642 करोड़ रुपए के कोविड से जुड़े 9 लाख से ज्यादा क्लेम का निपटारा किया गया है।

देश में लगातार बढ़ रहे कोरोना मरीज
पिछले 24 घंटे के अंदर अब तक के सबसे ज्यादा नए मरीज मिले हैं। इस दौरान 3 लाख 32 हजार 320 लोग पॉजिटिव पाए गए हैं। ये लगातार दूसरा दिन है जब देश में एक दिन के अंदर तीन लाख से ज्यादा मरीजों की पहचान हुई है। इससे पहले बुधवार को 3.15 लाख लोग संक्रमित पाए गए थे।

Leave A Comment